Friday 3 June 2011


बिगरी बात बने नहीं, लाख करो किन कोय।
रहिमन बिगरे दूध को, मथे न माखन होय॥

No comments:

Post a Comment