Sunday, 4 September, 2011

कबीर...

कबीरा ते नर अँध है, गुरु को कहते और ।
 
हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रूठे नहीं ठौर ॥

No comments:

Post a Comment